Book Service Appointment

वैदिक ज्योतिषकृती सार


आपके जीवन की अनिश्चितताओं को संकुचित करने का एक सार्थक प्रयास !

VEDIC JYOTISHKRTI (ASTROLOGY & VASTU)

ज्योतिष शास्त्र के विषय में वराहमिहिर का कहना है कि पूर्व जन्म में किए गये शुभाशुभ कृत्य उसको यह शास्त्र उसी प्रकार व्यक्त कर देता है जिस प्रकार अंधकार में छिपी वस्तुओं को प्रकाश प्रकाशित कर देता है। ज्योतिष शास्त्र की महत्ता को प्रदर्शित करते हुए कहा गया  कि-ज्योतिःशास्त्रमिदम पुण्यम प्राहुर्नयविदों बुधा:,स्वतः प्रामाण्यमस्यास्ति सत्यं प्रत्यक्षतो यतः॥    हम वैदिक ज्योतिषकृती हैं। ज्योतिष  वेदांगो में अत्यधिक महत्वपूर्ण माना गया है । इसके माध्यम से आपके जीवन की समस्याओं के कारक ग्रहों का पता लगा कर उनके दोषनिवारण हेतु यथोचित उपायों द्वारा आप अपनी समस्याओं पर काफी हद तक अंकुश लगा सकते है । ज्योतिषकृती स्वयं ज्योतिष और कृति का मिलन है।  जहां ज्योतिष, जैसा कि व्यापक रूप से जाना जाता है, आपकी कुंडली में उपस्थित  विभिन्न योगों   के पूर्वानुमानीत  विश्लेषण के माध्यम से आपके भविष्य की संभावित घटनाओं का प्रारूप  बनाने के लिए एक सिद्ध  विज्ञान है। "कृति" का अर्थ है रहस्यवादी चिकित्सा, चिकित्सा विज्ञान की समझ से परे एक चिकित्सा।

know more

वैदिक ज्योतिषकृती विशिष्टता


वैदिक ज्योतिषकृती टीम दशकों से ज्योतिष एवं कर्मकांड से सम्बंधित सेवाएं प्रदान करती आ रही है | वैदिक ज्योतिषकृती के संस्थापक सदस्यों ने ज्योतिष एवं कर्मकांड का ज्ञान अपने पूर्वजों से प्राप्त करके दशकों से चलती आयी परंपरा को जाग्रत रखा हैं।  अतःएव आप जब भी किसी वैदिक ज्योतिषकृती के सदस्य से ज्योतिष सम्बंधित मार्गदर्शन या कर्मकांड सम्बंधित विषयों पर सलाह लेते है ; उस सलाह मे सिर्फ उनका अनुभव ही नहीं अपितु उनके पूर्वजो के ज्ञान का भी प्रतिबिम्ब प्रत्यक्ष होता है।  

हज़ारों ग्राहको की विश्वनीयता पर खरा

व्यावहारिक एवं वास्तविक सलाह 

21.5 K फेसबुक प्रशंसक

सटीक और शक्तिशाली उपचारात्मक समाधान

गोपनीयता सुनिश्चित 

सस्ते और किफायती उपाय

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त है

5000 + से अधिक ग्राहक 

भविष्यवाणी में सटीकता

आज का राशिफल

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

आज का पंचांग

ASTRO NEWS

वास्तु शास्त्र और दिशायें

:-वास्तु शास्त्र में दिशा का प्रभाव:- जैसा कि हमने अपने पूर्व प्रकाशित लेख में बताया कि बताया कि प्रमुख दिशाएं चार होती हैं-पूर्व,पश्चिम,उत्तर और दक्षिण। आज हम इन चार प्रमुख…

वास्तुशास्त्र और दिशा-विदिशा

:-वास्तुशास्त्र में दिशा-विदिशा :- जीवन के तीन प्रमुख अंगों (रोटी,कपडाऔर मकान)में मकान का विशेष महत्त्व है। मकान अर्थात निवास का स्थान,जिसके सन्दर्भ में एक शास्त्र की रचना की गयी,जिसे वास्तु…

तुलसी विवाह

तुलसी विवाह:- कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी जो कि देवोत्थान एकादशी के नाम से भी जानी जाती है,इस पुण्य एकादशी के दिन से हीं कुछ लोग तुलसी विवाह…

भीष्म पंचक

:-भीष्म पंचक:- कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी से लेकर पूर्णिमा तक की पाँच तिथियों को भीष्म पंचक कहा जाता है। जो लोग पूरे एक महीने तक कार्तिक के…

OUR SERVICES

HOROSCOPE CONSULTATION

Read More

ASTRO VASTU CONSULTATION

Read More

DURLABH POOJAS & MAHAYAGYA

read more

GEMSTONE RECOMMENDATION

read more

HOLISTIC MATCH MAKING

read more

MARITAL DISCORD / LATE MARRIAGE

read more

BUSINESS IMPROVEMENT

read more

CHILDLESS COUPLES / PROGENY

read more
WeCreativez WhatsApp Support
Our customer support team is here to answer your questions. Ask us anything!
👋 Hi, how can I help?