Astro News – Vedic JyotishKrti Book Service Appointment

मासिक राशिफल जुलाई 2020

वैदिक ज्योतिष्कृति टीम की तरफ से विभिन्न राशि वालों के लिए उनका जुलाई   मास का राशिफल प्रस्तुत किया जा रहा है।  यह राशिफल आपकी चंद्र राशि पर आधारित है। …

मंगल का मीन राशि में गोचर 18 -जून-2020

   ” सनमंगलम मंगल:” सूर्य को ग्रहों का राजा तो मंगल को सेनापति की संज्ञा दी गई है हमारे ज्योतिष शास्त्र में,मंगल के सूर्य,चन्द्र,और गुरु मित्र तो शुक्र,शनि समता का भाव…

मासिक राशिफल जून 2020

वैदिक ज्योतिष्कृति टीम की तरफ से विभिन्न राशि वालों के लिए उनका जून मास का राशिफल प्रस्तुत किया जा रहा है।  यह राशिफल आपकी चंद्र राशि पर आधारित है।  आपकी…

मंगल का कुंभ राशि में गोचर 04-मई-2020

   ” सनमंगलम मंगल:” सूर्य को ग्रहों का राजा तो मंगल को सेनापति की संज्ञा दी गई है हमारे ज्योतिष शास्त्र में,मंगल के सूर्य,चन्द्र,और गुरु मित्र तो शुक्र,शनि समता का भाव…

मासिक राशिफल मई 2020

वैदिक ज्योतिष्कृति टीम की तरफ से विभिन्न राशि वालों के लिए उनका मई  मास का राशिफल प्रस्तुत किया जा रहा है।  यह राशिफल आपकी चंद्र राशि पर आधारित है। 

सूर्य का मेष राशि में गोचर- 13अप्रैल 2020

सूर्य सिद्धान्त के अधिष्ठाता भगवान सूर्य अपनी गत्यात्मक अवस्था में मेष  राशि में प्रवेश कर रहे है। 13 अप्रैल 2020  को सूर्य मेष राशि में प्रवेश करेगा और 14 मई…

मासिक राशिफल अप्रैल 2020

वैदिक ज्योतिष्कृति टीम की तरफ से विभिन्न राशि वालों के लिए उनका अप्रैल मास का राशिफल प्रस्तुत किया जा रहा है।  यह राशिफल आपकी चंद्र राशि पर आधारित है।  आपकी…

अन्नपूर्णा स्तोत्र

नित्यानन्दकरी वराभयकरी सौन्दर्यरत्नाकरी निर्धूताखिलघोरपावनकरी प्रत्यक्षमाहेश्वरी । प्रालेयाचलवंशपावनकरी काशीपुराधीश्वरी भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी ॥ १॥ नानारत्नविचित्रभूषणकरी हेमाम्बराडम्बरी मुक्ताहारविलम्बमान विलसत् वक्षोजकुम्भान्तरी । काश्मीरागरुवासिता रुचिकरी काशीपुराधीश्वरी भिक्षां देहि कृपावलम्बनकरी माताऽन्नपूर्णेश्वरी ॥ २॥ योगानन्दकरी…

मालाजाप की विधि

समस्यों के समाधान हेतु प्रभावशाली मालाजप पद्धति  आज के जीवन में मन की एकाग्रता को पाना बहुत कठिन है | हिन्दू धर्म में भगवान की आराधना के लिए बहुत विधियाँ…

हवन एवं नवरात्रि व्रत की पारणा

:-हवन एवं नवरात्रि व्रत की पारणा:- बासन्तिक नवरात्रि जीवन में बसन्त हमेशा बना रहे,इसके लिये अपने आगमन काल में ही माता की आराधना का पवित्र अवसर देता है,और संकेत करता…

1 2 185